Samsung स्मार्टफोनों के लिए बनाएगा 600 मेगापिक्सेल तक के कैमरे

Samsung इस समय स्मार्टफोन कैमरों को लेकर नए लक्ष्य निर्धारित कर चुका है। कंपनी हाई-रेज़ॉल्यूशन कैमरों पर ख़ासा ध्यान दे रही है। सैमसंग ही वो पहली कंपनी है जो 64 मेगापिक्सेल का GW1 सेंसर लेकर आयी। इसके अलावा सैमसंग के Galaxy S20 Ultra में हमने 108 मेगापिक्सेल का कैमरा देखा और कंपनी अब और ज़्यादा हाई-रेज़ॉल्यूशन कैमरों पर काम कर रही है।

फिलहाल सुनने में आ रहा है कि इस साउथ कोरियाई कंपनी ने 150 मेगापिक्सेल और 192 मेगापिक्सेल कैमरों पर काम शुरू कर दिया है। इसके अलावा एक नयी रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि सैमसंग 250 मेगापिक्सेल सेंसर भी बना रही है।

ये भी पढ़ें: इसी हफ्ते में Galaxy A71 5G और A51 5G के बाद, Samsung ने किफायती दरों पर GalaxyA11 और Galaxy A21 लॉन्च किये

इसके अलावा Mydrivers की रिपोर्ट के अनुसार कंपनी 192 मेगापिक्सेल कैमरे पर अपना कार्य पूरा कर चुकी है और 250 मेगापिक्सेल पर फिलहाल काम जारी है। इसके अलावा कंपनी के सेंसर बिज़नेस टीम के प्रमुख, योंगिन पार्क का कहना है कि वो 600 मेगापिक्सेल का कैमरा बनाने की इच्छा रखते हैं जो कि लगभग मनुष्य की आँख के बराबर का रेज़ॉल्यूशन है।

ये सुनकर आपको थोड़ा अटपटा लग सकता है कि कैमरा वो भी मनुष्य की आँख के बराबर के रेज़ॉल्यूशन के साथ। अगर गौर करें तो कैमरा आँख के जैसा ही दिखता है। आइये आपको बताते हैं कि आख़िर योंगिन पार्क ने ऐसा क्यों कहा ?

क्या है आँख का रेज़ॉल्यूशन ?

हमारी आँख कैमरा की तरह नहीं होती है और ना ही हम पिक्सेल में किसी तस्वीर को स्टोर करके रख सकते हैं। लेकिन अपनी आँखों के साथ हम काफी छोटा एरिया एक समय पर देख पाते हैं और कुछ भी गौर से देखने पर बाकी की चीज़ें ब्लर् नज़र आती हैं। इसके अलावा पूरे दृश्य को देखने के लिए हमें अपनी आँखों को घुमाना पड़ता है। साथ ही इमेज प्रोसेसिंग का काम हमारा दिमाग करता है। लेकिन अगर पूरे सीन को 120 डिग्री फील्ड ऑफ़ व्यू के साथ मानें तो हमारी आँखों का मेगापिक्सेल क्या होगा ?

Roger M Clark ने इस रेज़ोल्यूशन को कैलकुलेट किया और ये लगभग 576 मेगापिक्सेल है।

इसी आधार पर हमने कहा कि सैमसंग आँखों के रेज़ोल्यूशन के बारबार का कैमरा बनाना चाहता है।

ये तो हम सभी देखते आ रहे हैं कि पिछले कुछ सालों में स्मार्टफोन कैमरे काफी बेहतर हुए हैं। हालांकि मेगापिक्सेल का नंबर मायने नहीं रखता है, मायने रखती है पिक्सेल की गुणवत्ता। लेकिन 48 मेगापिक्सेल, 64 और अब 108 मेगापिक्सेल में जो पिक्सेल-बिंनिंग तकनीक अपनायी गयी है उसने कैमरों को काफी बेहतर बनाया है। ख़ासतौर से किफ़ायती दरों के स्मार्टफ़ोनों में अब कैमरे काफी अच्छी तस्वीर लेते हैं।

ख़ैर अब देखते हैं कि Samsung अपने हाई-रेज़ॉल्यूशन सेंसर की गिनती कहाँ तक लेकर जाता है।

Facebook Comments

Recommended For You

About the Author: Pooja Choudhary

Leave a Reply

Your email address will not be published.

hi हिन्दी
X
%d bloggers like this: