अब इन जगहों पर आधार कार्ड अनिवार्य नहीं, सुप्रीम कोर्ट के सुनाया ये अहम फैसला

धीरे धीरे आधार कार्ड, भारतीय नागरिकों का आधार बन चुका है | आपका मोबाइल नंबर हो, बच्चों का स्कूल में दाखिला करवाना हो या फिर बैंकों में अकाउंट खुलवाना हो, सभी कार्यों के लिए आधार कार्ड का होना अनिवार्य है | लेकिन आज दिल्ली में भारत के सर्वोच्च न्यायालय (सुप्रीम कोर्ट) ने आधार कार्ड को लेकर एक अहम फैसला सुनाया है |

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार आज से बैंक अकाउंट से आधार कार्ड को लिंक करवाना अनिवार्य नहीं है | सर्वोच्च न्यायालय के अनुसार, आधार कार्ड आम आदमी की पहचान है और इसकी के साथ आप किसी भी व्यक्ति विशेष का कोई भी डाटा किसी और संस्था या व्यक्ति से साझा करते हैं, तो उस व्यक्ति विशेष को अवश्य सूचित करें | साथ ही छः महीनों से ज्यादा का ऑथेंटिकेशन रिकॉर्ड न रखें और इस बात पर भी ध्यान दिया जाए की घुसपैठियों के आधार बनाए ही ना जाएँ |

सर्वोच्च न्यायालय ने आधार कार्ड की महत्ता को समझते हुए, आम जनता की प्राइवेसी को भी ध्यान में रखा है | इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में निम्न बातें कहीं हैं:

  • बच्चों के विद्यालय में दाखिले के लिए आधार कार्ड अनिवार्य नहीं है |
  • आज के पश्चात बैंक अकाउंट से भी लिंक नहीं होंगे आधार कार्ड |
  • साथ ही मोबाइल नंबर से भी अब इसे लिंक करवाना जरूरी नहीं है |
  • सी.बी.एस.ई. और एन.ई.ई.टी. के लिए भी आधार की आवश्यकता नहीं होगी |
  • पैन कार्ड बनवाने और इनकम टैक्स ला रिटर्न भरने के लिए आधार अभी भी अनिवार्य ही होगा |
  • साथ ही उच्चतम न्यायालय ने आधार से जुड़े सेक्शन 57 को भी हटा लिया है, जिसके बाद प्राइवेट कंपनियां अपने कर्मचारियों से आधार कार्ड नहीं मांग सकती |

सुप्रीम कोर्ट के अनुसार अब तक देश में 122 करोड़ लोगों के आधार कार्ड बन चुके हैं और ये समाज के दबे हुए वर्गों के लिए काफी अच्छा प्रमाणित हुआ है और उन्हें हिम्मत भी प्रदान करता है | लेकिन इसके हर जगह अनिवार्य होने होने से लोगों को तकलीफें भी हो रहीं है, जिसे नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता है और नतीजतन, कुछ जगहों पर अप आधार कार्ड अनिवार्य नहीं होगा |

Facebook Comments

Recommended For You

About the Author: Pooja Choudhary

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: