थमने का नाम नहीं ले रही मोदी से मशरूम के रिश्ते की चर्चा

गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजे आने शुरू हो गए है। लेकिन प्रचार अभियान के दौरान कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकुर द्वारा बनासकांठा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हर रोज चार लाख रूपये के आयातित मशरूम खाने के आरोप की चर्चा थमने का नाम नहीं ले रही। अल्पेश ने कहा था कि मोदी के लिए ताइवान से मंगवाए जाने वाले एक मशरूम की कीमत अस्सी हजार रूपये है। अल्पेश के अनुसार मोदी हर रोज चार मशरूम खा जाते है। अल्पेश ने दावा किया कि यहीं मशरूम नरेंद्र मोदी के गोरे रंग और अत्याधिक ऊर्जा के स्त्रोत है। अल्पेश ने दावा किया था कि यह सिलसिला मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री होने के समय से चल रहा है।

अल्पेश ठाकुर के इस आरोप को देश – विदेश के मीडिया में खूब जगह मिली। ट्विटर पर यह मुद्दा ट्रेंड करने लगा। टीवी चैनलों के रिपोर्टर इस मामले की सच्चाई जानने के लिए माहिरों के पास जाने लगे। पड़ताल में पता चला कि दुनिया भर में मशरूम को पौष्टिक आहार माना जाता है। चीन में लोग मशरूम की पेस्ट बना कर चेहरे पर लेप करते है। रोम में मशरूम को देवताओं का खाना समझा जाता है। जापान के लोग मशरूम को व्यापार का अच्छा जरिया मानते है। दुनिया में ताइवान के मशरूम की खास पहचान है। मशरूम के कारोबार में विश्व में ताइवान का विशेष स्थान है।

इस बीच यह भी पता चला है कि मशरूम खा कर गोरे होने के आरोप कोई नए नहीं है। ट्विटर पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय झा, फिल्म अभिनेत्री शिल्पा सेठी और न जाने कितने लोगों के संबंध में मशरूम से गोरे और जवान दिखने के दावे पहले से ही मौजूद है। नरेंद्र मोदी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि करीब 45 साल तक संघ के प्रचारक रहते हुए उन्होंने भिक्षा में मिला खाना ही खाया है। इससे उनका स्वाद जाता रहा है। इसके अलावा खाने का समय नियत न होने से उनके पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ा है। लेकिन मशरूम खाने के संबंध में उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई।

आहार विशेषज्ञों का कहना है कि मशरूम में एंटी ऑक्सीडेंट तत्व होते है। यह मनुष्य पर आयु के प्रभाव को कम करने में भी कारगर होता है। पाचन प्रणाली पर भी मशरूम अच्छा असर डालता है। लेकिन इस विवाद पर सबसे दिलचस्प टिप्पणी ताइवान से एक युवती ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की है। वीडियो संदेश में उसने साफ किया है कि इतने महंगे मशरूम ताइवान में नहीं होते। उसने भारत के नेताओं को अपनी राजनीति में उनके देश के मशरूम को घसीटने से गुरेज करने की सलाह भी दी है।
अमित यायावर

aakritipr@gmail.com

 

 

Facebook Comments

Recommended For You

About the Author: Amit Yayavar

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: