ताज महल पर खास ध्यान देगी भारत सरकार

अगले वित्त वर्ष में भारत सरकार ने ताज महल पर खास ध्यान देने का निर्णय लिया है। केंद्रीय संस्कृति राज्य मंत्री महेश शर्मा ने कहा है कि पर्यटन में देश की किस्मत को बदलने की क्षमता है। अभी पर्यटन से देश की जीडीपी को करीब सात प्रतिशत मिल रहा है। सरकार इसे बढ़ाने का इरादा रखती है। इसके लिए देश की दस धरोहरों और एक सौ स्मारकों को विकसित करने का लक्ष्य रखा गया है। आगरा का विश्व प्रसिद्ध ताज महल भारत सरकार के लिए खास महत्व का होगा। ताज महल को लेकर कई योजनाओं की घोषणाएं संस्कृति राज्य मंत्री महेश शर्मा ने की है।

 

केंद्र सरकार ने ताज महल के दर्शन की टिकट को चालीस रुपए से बढ़ा कर पचास रुपए करने का फैसला लिया है। इस टिकट से तीन घंटे तक ताज परिसर में ठहरा जा सकेगा। पहले ताज में रुकने की कोई समय सीमा नहीं थी। मुमताज़ के मकबरे तक जाने के लिए दो सौ रुपए का अतिरिक्त टिकट लगाया गया है। ताज महल के चाँद की रौशनी में दर्शन का अलग आकर्षण है। इसके लिए यमुना के किनारे पर्यटन स्थल विकसित करने की योजना भी बनाई गई है। सरकार ने पर्यटकों के प्रति लपका संस्कृति को खत्म करने के लिए कदम उठाने की घोषणा की है। खासतौर पर महिला विदेशी पर्यटकों की लपका में संलग्न गाइड, होटल और टैक्सी वालों से बचाने के प्रयास किए जाएंगे। महेश शर्मा ने कहा कि ताज महल को अगले हजारों वर्षों तक बचा कर रखने के इंतजाम किये जाने है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पर्यटन पर हमेशा ही जोर रहा है। गुजरात में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने कई प्रयोग भी किए थे। पर्यटन रोजगार का एक बड़ा साधन बन सकता है। रोजगार के यह अवसर गाइड, टैक्सी चालक, ठेला -खोमचा वालों को उपलब्ध होते है। पर्यटन सरकार के लिए भी विदेशी मुद्रा के अर्जन का अवसर है। देखना है कि संस्कृति राज्य मंत्री महेश शर्मा इन अवसरों का कितना लाभ उठा पाते है।

अमित यायावर

aakritipr@gmail.com

Facebook Comments

Recommended For You

About the Author: Amit Yayavar

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: